महिला वशीकरण तंत्र मंत्र

महिला वशीकरण तंत्र मंत्र


महिला वशीकरण तंत्र मंत्र, विचित्रताएं, विविधताएं और चंचल स्वभाव की प्रकृति वाली महिला को अपने वश में रखना किसी भी पुरुष के लिए सहज नहीं होता है। उन्हें बातों से तबतक बहलाया-फुसलाया नहीं जा सकता है, जबतक कि उसके मन-मस्तिष्क को पूरी तरह से नियंत्रित नहीं कर लिया जाए।

महिला वशीकरण तंत्र मंत्र

यानी कि किसी भी महिला का तंत्र-मंत्र की बदौलत ही वशीकरण किया जा सकता है। इसके लिए कई मंत्र और उसके प्रयोग बताए गए हैं। कुछ के लिए कई दिनों तक साधनाएं करनी होती है, जबकि कुछ मामले में एक टोटके के साथ सिर्फ मंत्र जाप कर देने भर से ही महिला के वशीकरण का काम बन जाता है।

मंत्रों में शब्दों की अद्भुत शक्ति होती है। उससे मनचाही सिद्धियां हासिल की जा सकती है और समस्याओं को दूर किया जा सकता है। किसी महिला की नजर से नजर मिलाकर या उसके पैरों की मिट्टी, या फिर सिंदूर आदि का तिलक लगाकर मंत्रों के जाप के साथ वशीकरण किया जा सकता है। कुछ ऐसे प्रयोग इस प्रकार हैं-

नजरों से महिला वशीकरण

अगर आप किसी महिला से प्रेम करते हैं, और आपको ऐसा लगता है कि वह आपके प्रेम को लेकर गंभीर नहीं है और प्यार का दिखावा कर रही है, तब मन में ही निम्न मंत्र का जाप कर उसे अपने वश में किया जा सकता है। यह वशीकरण आपको उसका प्यार हासिल करने में मददगार साबित होगा। मंत्र है-

एं भग भुगें भगनी भागादरि भगमाले यौनि,

भगनिपतिनि सर्वभग संकरी भगरूपे

नित्य क्लैं भगस्वरूपे सर्व भगिनि मे वशमानय।

व्रदेरेते सुरेते भग लिन्कने क्लीं न द्रवे क्लेदय,

द्रावय अमोधे भग विधे क्षुभ क्षोभय सर्व,

सत्वामगेश्वरी एं लकं भगनि तस्मै स्वाहा!

जब भी महिला के सामने जाएं तब उसकी आंखें में डालकर इस मंत्र का कम से कम तीन बार अवश्य जाप करें। इसके लिए कोई दिन या शुभ मुहूर्त का समय निर्धारित नहीं है। ऐसा सात दिनों तक लगातार करने से महिला वश में आ जाती है। इसका प्रयोग पुरुष द्वारा अपनी पत्नी के साथ संतोषजनक यौन संबंध बनाने के लिए भी किया जा सकता है।

तिलक और मंत्र महिला वशीकरण

प्रेमिका को रिझाने और उसे अपने वश में करने के लिए भी एक विशेष मंत्र दिया गया है। इसका प्रयोग शनिवार को सिंदूरी रंग के हनुमान जी पर उसी रंग का चोला चढ़ाने के बाद किया जाता है। हर रोज हनुमान मंदिर में जाएं। हनुमान जी की पूजा करें।

हनुमान चालिसा पढ़ें और सिंदूरी रंग का चोला चढ़एं और हनुमान जी के पैरों में लगे सिंदूर का तिलक लगार अपने प्रिय के पास जाएं। उसके आमने-समने इस तरह से बैठें कि तिलक पर उसकी निगाह बन जाए। ंजैसे ही उसकी तिलक पर जाए निम्न मंत्र का जाप मन में करें।

ऊँ नमो आदेश गुरु को, राजा मोहुं।

प्रजा मोहुं, मोहुं ब्राह्मण बनियां!

ळनुमंत ब्राह्मण बनियां, हनुमंत रूप में जगत मोहूं।

तो रामचंद्र परमाणियां।

गुरू की शक्ति, मेरी भक्ति, फुरो मंत्र इश्वरो वाचा!!

प्रेमिका का वशीकरण

प्रेम में पूर्ण सफलता तभी मिल पाती है यदि प्रेमिका अपने प्रेमी के प्रति समर्पित भावना रखे। इस समर्पण को पाने के लिए प्रेमी कई उपाय करते हैं, लेकिन उन्हें असफलता ही हाथ लगती है। वैदिक मंत्र में ऐसी शक्ति है, जिससे प्रेमिका का वशीकरण कर उसे अपने प्यार के प्रति समर्पित किया जा सकता है। इसके लिए दिया गया शक्तिशाली सिद्ध मंत्र का जाप विधिवत करना चाहिए।

मंत्र है- ऊँ भगवती भग भाग दायिनी देव दत्तीं मम वश्यं कुरु कुरु स्वाहा!

अपनी मनपसंद महिला यानी प्रेमिक को वश में करने के लिए गुरुवार का दिन चुनें। शाम के समय घर का एक स्थान पर आसन लगाकर बैठ जाएं। अपने सामने एक ढक्कन बंद डिब्बी में थोडा नमक भी रखें।

प्रेमिका का मन में ध्यान करते हुए नमक की डिब्बी का ढक्कत हटाएं और मंत्र का 108 बार जाप करें। मंत्र में देवदत्ती के स्थान पर प्रेमिका नाम उच्चारित करें। जाप के बाद डिब्बी के नमक पर सात बार फूंक मारें। इस तरह से नमक के अभिमंत्रित होने की शुरूआत हो जएगी। उसे सुरक्षित स्थान पर रख दें।
इस मंत्र जाप की प्रक्रिया को लगातार 29 दिनों तक करें। मंत्र जाप की प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद नमक मनचाही स्त्री को धोखे से खिला दें। नमक खाने के बाद उसका आपके प्रति तेजी से आकर्षण बढ़ जएगा। वह वशीभूत होकर समर्पित हो जाएगी।
ध्यान रहे कि इस मंत्र के सकारात्मक प्रभाव होता है और मनोवांक्षित जीवनसाथी का के प्रयोग किया जाना चाहिए। किसी महिला के साथ अनैतिक संबंध कायम करने के लिए इसका प्रयोग कतई नहीं करना चाहिए।

सफल सहवास के वास्ते महिला वशीकरण

स्त्री और पुरुष के बीच शारीरिक आकर्षण प्राकृतिक गुण है, लेकिन कई बार इसमें कुछ कारणों से खलल पड़ जाती है। महिला कुछ निजी तो कुछ सामाजिक मान्यता और संस्कारों की वजह से अपने पति के प्रति समर्पित होकर यौन संबंध कायम नहीं कर पाती हैं। वैसी महिला के पति को निःसंकोच होकर संभोग वशीकरण मंत्र का विधिवत प्रयोग करना चाहिए।

इसमें कुछ हिदायतों का भी पालन करना चाहिएं। किसी भी भावना आहत नहीं होनी चाहिए। पारिवारिक और सामाजिक मान-मर्यादा का उल्लंघन नहीं किया जाना चाहिए। वरना मंत्र प्रयोग करने वाले का जीवन भी मुश्किल में पड़ सकता है। तरीका इस प्रकार अपनाएंः-

सहवास के इच्छु महिला की फोटो या कोई वस्त्र को अपने सामने रखकर दिए गए रात के 11 बजे के बाद वशीकरण मंत्र का 121 बार जाप करें। जाप का दिन शनिवार या रविवार होना चाहिए।

जाप फर्श पर आसन लगाकर करें।

मन्त्र हैः- ऊँ कामदेवाय सम्भोगर अमुक वश वश्यं क्रू क्रू स्वाहा!! इसमंे अमुक के स्थान पर वशीकरण किए जाने वाली महिला नाम उच्चारित करें।
मन्त्र जाप के बाद अब फोटो पर अपनी अनामिका को फेरते हुए “वश वषय क्रू” का 1001 बार जाप करें।
इस प्रक्रिया को अगले तीन दिनों तक करें। इसकी साधना करते समय मांस-मदिरा या दूसरे तरह के नशा के परहेज बचें।
दूसरा मंत्र ओम वशीकरणाय वशीभूताय शुक्राय दात्री अमुक मंगलाय वशीभूताय कुरु कुरु स्वाहा! है। इस मंत्र का जाप भी पहले विधि के अनुसार शनिवार को रात को शुरू कर अगले शुक्रवार तक करें। इसके साथ सात चावल के दाने, कपूर और तीन इलायची के साथ टोटका भी करना होगा। इन्हें लाल पुड़िया मे लपेटकर मंत्र जाप के आखिरी दिन अग्नि के हवाले कर दें।